Top Inspirational Maa Shayari in Hindi for Whatsapp | शायरी मेरी माँ के लिए

Top Inspirational Maa Shayari in Hindi for Whatsapp | शायरी मेरी माँ के लिए

Maa Shayari in Hindi for Whatsapp
Maa Shayari in Hindi for Whatsapp

Maa Beautiful Shayari

सर पर जो हाथ फेरे तो हिम्मत मिल जाये,
माँ एक बार मुस्कुरा दे तो जन्नत मिल जाये।

Maa Shayari for Whatsapp

किसी को घर मिला, किसी के हिस्से में दुकां आई
मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में मां आई

Maa Par Shayari

माँ तेरे दूध का हक़ मुझसे अदा क्या होगा
तू है नाराज तो खुश मुझसे खुदा क्या होगा

Maa Pe Beautiful Shayari

भूल जाता हूँ परेशानियां ज़िंदगी की सारी,
माँ अपनी गोद में जब मेरा सर रख लेती है।

Maa Ke Liye Shayari

यूँ तो मैंने बुलन्दियों के हर निशान को छुआ,
जब माँ ने गोद में उठाया तो आसमान को छुआ।

Pyari Maa Shayari

ना जाने माँ क्या मिलाया करती हैं आटे में
ये घर जैसी रोटियाँ और कहीं मिलती नहीं

Maa Par Shayari

पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,
इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है।

Shayari for Maa

​मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा यारों,
सुबह आँख खुली तो सर ‘माँ’ के कदमो में था..​

Maa Sundar Shayari

हर पल में ख़ुशी देती है माँ,
अपनी ज़िन्दगी से जीवन देती है माँ..
भगवन क्या है माँ की पूजा करो जनाब!!!
क्योंकि भगवान को भी जनम देती है माँ..

Bholi Maa Shayari

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आंसू
मुद्दतों मां ने नहीं धोया दुपट्टा अपना

Maa Ke Liye Shayari

सख्त राहों में भी आसान सफ़र लगता है,
ये मेरी माँ की दुआओं का असर लगता है।

Maa Par Shayari in Hindi

ये कैसा क़र्ज़ है जिसे मैं अदा कर ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर न आ जाऊं माँ सजदे में रहती है।

Maa Ke Liye Hindi Shayari

गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने,
भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी।

Maa Beautiful Shyari

किसी भी ​मुश्किल का अब किसी को हल नहीं मिलता,
​शायद अब घर से कोई माँ के पैर छूकर नहीं निकलता​।।

Meri Maa Shayari

वो लिखा के लायी है किस्मत में जागना,
माँ कैसे सो सकेगी कि बेटा सफ़र में है।।

Shayari for Maa

जरा सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाए,
कि मेरी माँ दिए से मेरे लिए काजल बनाती है

Maa Ki Dua Shayari

ठोकर न मार मुझे पत्थर नहीं हूँ मैं,
हैरत से न देख मुझे मंज़र नहीं हूँ मैं,
तेरी नज़रों में मेरी क़दर कुछ भी नहीं,
मेरी माँ से पूछ उसके लिए क्या नहीं हूँ मैं।

Maa Ka Pyar Shayari

मेरी खातिर तेरा रोटी पकाना याद आता है,
अपने हाथो को चूल्हे में जलाना याद आता है।
वो डांट-डांट कर खाना खिलाना याद आता है,
मेरे वास्ते तेरा पैसा बचाना याद आता है।

Maa Ke Liye Shayari

जिंदगी की पहली Teacher माँ,
zindagi की पहली Friend माँ ,
जिंदगी भी माँ क्योंकि,
zindagi देने वाली भी माँ,

Maa Ki Mamta Shayari

क्यों भूल जाते है हम उस माँ को वक़्त के साथ साथ
नहीं रहता हमको उनका कोई ख्याल
क्या होता होगा उस माँ के दिल का हाल
जिसने हमारे लिए भुला दिया अपना हर एक ख्वाब।

Maa Par 2 Line Shayari

हालातो के आगे जब साथ
न जुबा होती है
पहचान लेती है ख़ामोशी मे हर दर्द
वो सिर्फ “माँ” होती है !!!

Maa Ki Dua Shayari

स्याही ख़तम हो गई “माँ” लिखते लिखते
उसके प्यार के दासता इतनी लम्बी थी

Maa Ka Pyaar Pe Shayari

हजारो गम हो फिर भी में ख़ुशी से फुल जाता हूँ
जब हस्ती है मेरी माँ, मैं सारे गम भूल जाता हूँ

Maa Ke Liye Shayari

मां-बाप की बूढ़ी आंखों में इक फ़िक्र-सी छाई रहती है
जिस कम्बल में सब सोते थे अब वो भी छोटा पड़ता है

माँ के लिए शायरी | Maa Ke Liye Shayari

उसके होठो पर कभी बदुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो कभी कफा नहीं होती

माँ पर शायरी | Maa per Shayari

सुना – सुना सा मुझे घर लगता है
माँ नहीं होती तो बहुत डर लगता है

माँ की ख्वाहिश शायरी

एक हस्ती है जो जान है मेरी,
जो जान से भी बढ़ कर शान हे मेरी,
रब हुक्म दे तो कर दू सजदा उसे,
क्यूँ की वो कोई और नही
माँ है मेरी

माँ पर शायरी | Top Inspirational Maa Shayari

मैंने कभी भगवान को नहीं देखा है,
लेकिन मुझे इतना यकीन हे की,
वो भी मेरी माँ की तरह होगा!

माँ का प्यार शायरी

उसने मुझे एक थप्पड़ मारा और खुद रोने लगी
सबको खिलाया और खुद बिना खाए सोने लगी

मेरी माँ के लिए शायरी

गम हो दुःख हो या खुशिया
माँ जीवन की हर किस्से मे साथ देती है
खुद सो जाती है भूखी,
और बच्चो मे रोटी अपने हिस्से की बाँट देती है।

माँ की ममता पर शायरी

घुटनों से रेंगते-रेंगते जब पैरों पर खड़ा हो गया
माँ तेरी ममता की छाँव में जाने कब बड़ा हो गया

शायरी मेरी माँ के लिए

जो मांगू वो दे दिया कर
ऐ ज़िन्दगी
तू बस
मेरी माँ की तरह बन जा

Meri Maa Ke Liye शायरी | Top Inspirational Maa Shayari

चलती फिरती आँखों से अज़ाँ देखी है
मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है

Maa Par Anmol Vachan

आज लाखों रुपये बेकार हैं
वो एक रुपये के सामने
जो माँ स्कूल जाते वक्त देती थी

Maa Ki Muskan Shayari

हजारों गम हों फिर भी मैं ख़ुशी से फूल जाता हूँ
जब हंसती है मेरी माँ तो मैं हर गम भूल जाता है ।

Leave a Comment